• Recent

    RECENT

    8/slider-recent
  • Osho Dialogue

    5/Osho%20Dialogue/feat2

    ओशो बुक्स हिंदी

    5/Osho%20Hindi%20Books/feat2

    पाठकों के पत्र

    5/Sadhako%20Ke%20Patra/feat2

    जिस समय में परमात्मा मिल सकता है. उसको खिलौनों में काट रहे हो - ओशो

    7:23:00 pm 0

      जिस समय में परमात्मा मिल सकता है. उसको खिलौनों में काट रहे हो - ओशो  ढब्बूजी घर पहुंचे। जोर से चिल्ला कर बोले : हाय, हाय, मेरी जेब कट गयी!...

    अपने भीतर विराजमान परम सत्य को जीतते ही सारी दुनिया जीत ली जाती है- ओशो

    5:30:00 am 0

      अपने भीतर विराजमान परम सत्य को जीतते ही सारी दुनिया जीत ली जाती है- ओशो  दुनिया को जीतने के दो ढंग हैं: एक सिकंदर का ढंग है और एक वृद्ध का...

    जिसको पाने की आकांक्षा है, उसका त्याग झूठा है -ओशो

    5:30:00 am 0

      जिसको पाने की आकांक्षा है, उसका त्याग झूठा है -ओशो  हम है चालबाज, हम है होशियार। होशियारी ही हमारी डुबा रही है। हमारी होशियारी ही हमारी फा...

    मलूकदास ने जीवन भर लोगो के जीवन से कांटे बीने - ओशो

    5:30:00 am 0

      मलूकदास ने जीवन भर लोगो के जीवन से कांटे बीने - ओशो  मलूकदास के जीवन के संबंध में कुछ थोड़ी ही बातें ज्ञात हैं। वे प्रतीकात्मक हैं। समझ ले...

    सही और गलत, सब कुछ निर्भर करता है भीतर की अभीप्सा पर- ओशो

    7:51:00 am 0

      सही और गलत, सब कुछ निर्भर करता है भीतर की अभीप्सा पर- ओशो  यह तो बचपन की पहली घटना मलूकदास के संबंध में ज्ञात है कि वे कूड़ा-कचरा राम् तों...

    जहां हिंदू है, जहां मुसलमान है, जहां ईसाई है, वहां धर्म कहाँ है?- ओशो

    6:55:00 am 0

      जहां हिंदू है, जहां मुसलमान है, जहां ईसाई है, वहां धर्म कहाँ है?- ओशो  मैंने तो सुना है, जव जुगलकिशोर बिड़ला मरे.. मेरे परिचित थे। मुझसे भ...