Header Ads

  • New Post

    सिद्धार्थ उपनिषद Page 166

    सिद्धार्थ उपनिषद Page 166

    (453)

    गुरुनानकदेव जी पूरे विश्व के हैं . गुरुनानकदेव जी की कहानी को कबीर साहब से शुरू करना होगा . जैसे गंगा को ठीकसे समझना है तो हिमालय से बात शुरू करनी होगी .  कबीर साहब भ्रमणशील थे घूमते-घामते अपने 20 भक्तों की टोली के साथ पहुंच जाते हैं पंजाब . और तभी एक बहुत प्रतिभाशाली बालक को देखते हैं .  उम्र करीब 15 साल बुलाते हैं और पूंछते है कहां जा रहे हो . बालक नानकदेव जी कहते है पिता जी ने कुछ रुपये दिए हैं और कहा है कुछ लाभ का सौदा करना , कुछ अच्छा सौदा करना . कबीर साहब ने कहा मेरे पास भी कुछ माल है देखना चाहोगे . नानकदेव जी ने कहा दिखाइए ! कबीर साहब ने कहा यह माल आंख खोल कर नहीं देखा जाता है . आंख बंद करके देखा जाता है .   नानकदेव आंखें बन करके बैठ गए . कबीर साहब ने उनके सिर पर हाथ रखा और कहा कि सुनो !!!  और उन्हें अनाहत नाद की दीक्षा उसी समय दे दी . कबीर साहब ने कहा कैसा लगा माल ? नानकदेव ने खा पिता जी ने तो कहा था बेटा जाओ अच्छा सौदा करो , लेकिन आपने मुझे सच्चा सौदा दे दिया .  नानकदेव  जी ने 20 रुपये की पूंजी उनके चरणों  में रख दी और इस तरह नानकदेव दीक्षित हुए .
       
    इसलिए मैं बात कबीर साहब से शुरू करता हूं . कबीर साहब का जन्म जेठ की पूर्णिमा में हुआ था . सूरज की तरह थे . बड़ा प्रकाश था , बड़ी चमक थी . मगर तपिश भी बहुत थी -  " पाथर पूजै हरि मिले , तो मैं पूजूँ पहाड़ . तातै यह चक्की भली , पीस खाए संसार . " ऐसी चोट करे वाली बातें थी , ऐसी व्यंग करने वाली बातें थी . लोग तिलमिला गए . जैसे सूरज खूब चमके तो प्रकाश तो होता है मगर उसके साथ-साथ तपिश भी उतनी होती है .
       
    तुमको जानकार आश्चर्य होगा कि कबीर साहब ने आध्यात्म को बड़ी ऊंचाई दी . आध्यात्म को सत्-चित-आनंद से जोड़ा , निराकार से जोड़ा . उन्होंने आकार को करीब-करीब छोड़ ही दिया . केवल निराकार उनका प्रभु है . और इस तरह आध्यात्म को जो उन्होंने ऊंचाई दी - उसका नाम " प्रभुपद " है . कबीर साहब आध्यात्म को प्रभुपद तक ले गए .
       
    नानकदेव जी का अवतरण कार्तिक-पूर्णिमा को हुआ . कार्तिक-पूर्णिमा शीतल चंद्रमा के लिए , शीतल चांदनी के लिए प्रसिद्ध है . नानकदेव जी का व्यक्तित्व भी कार्तिक-पूर्णिमा के चाँद की तरह था . बड़ी शीतलता है , बड़ी मिठास है , बड़ा सौंदर्य है . इसलिए नानकदेव केसाथ हजारों लोग खड़े हो सके . नानकदेव जी का सौंदर्य क्या है ? कबीर साहब उनके गुरु थे उनकी पूंजी तो उनके साथ थी ही ... मैं हमेशा यह बात कहता हूं सुपुत्र वही है जो पिता के धन को और बढ़ाये , पिता के साम्राज्य को और बढ़ाये . अगर पिता के कमाए हुए धन को ही पुत्र खाता रहे , पिता के राज्य की सीमाओं को बस उतना ही रखे या उसे कम करे , तो वह पुत्र सुपुत्र नहीं हो सकता है . इस मामले में नानकदेव जी ने अपनी पूरी कृतज्ञता व्यक्त कर दी . कबीर दास जी से जो उन्हें धन प्राप्त हुआ था , उस धन को उन्होंने खूब और आगे बढ़ाया , उनके राज्य की सीमाओं को और भी आगे बढ़ाया . और उन्होंने  सत्-चित-आनंद में सत्यम-शिवम-सुन्दरम को भी जोड़ दिया . " प्रभुपद " को और आगे ले जाकर " ब्रह्मपद " तक पहुँचाया . अब सत्-चित-आनंद और सत्यम-शिवम-सुन्दरम नानकदेव जी का ब्रह्म है .
       
    कबीर साहब ने सिर्फ हुक्मी को महत्व दिया . नानकदेव जी ने हुकमी और हुकुम दोनों को साध लिया . इसलिए नानक देव जी ने " प्रभुपद " को " ब्रह्मपद " की ऊंचाई दी , जहां सृष्टि भी सम्मिलित है .  केवल हुकुमी नही . हुकुमी और हुकुम दोनों का सम्मान है . कबीर साहब को इस सृष्टि में कोई सौंदर्य दिखाई नहीं दिया , पर नानकदेव जी को इस सृष्टि में भी खूब सौंदर्य दिखाई दिया .
       
    और  वह आगे ओशो में प्रकट हुई . तुमको शायद आश्चर्य होगा ओशो ' अगहन-पूर्णिमा ' को अवतरित हुए . जेठ-पूर्णिमा में आते है कबीर साहब . कार्तिक-पूर्णिमा को अवतरित होते हैं नानकदेव जी , चाँद की शीतलता लेकर आते हैं नानकदेव जी . और बात आगे बढ़ती है : " रजनीश चन्द्र मोहन", "रजनीश " और " चन्द्र " . और अवतरित होते हैं ' अगहन-पूर्णिमा ' को . अब चाँद की शीतलता और बढ़ जाती है . एक अद्भुत बात मैं तुम्हें बताता हूं  जो मैंने अपने अनुभव अपने शोध से जाना है . कि वास्तव में ओशो कोई और नहीं थे बल्कि नानकदेव का ही अवतरण हुआ था ओशो में . और मुझे आश्चर्य लगता है उनके नाम " रजनीश चंद्र " के आगे " मोहन " और जुड़ गया था . यह अकारण नहीं है . इसलिए ओशो ने आध्यात्म को " ब्रह्म-पद " के भी आगे " गोविन्द-पद  " तक पहुंचा दिया .  ' मोहन ' गोविन्द को कहते हैं .
         
    " गोविन्द-पद " क्या है ?   गोविन्द-पद , ब्रह्म-पद के आगे जाता है . नानकदेव जी ने सत्-चित-आनंद के साथ सत्यम-शिवम-सुन्दरम को उंचाई दी थी पर उसमें उत्सव थोड़ा रह गया था . और जब ओशो बनकर वे आये तो उन्होंने उत्सव को भी जोड़ दिया . सेलिब्रेटिव existence . गोविन्द  क्या रास है ! , क्या नृत्य है ! क्या उत्सव है !
       
    इस आध्यात्म में मैं कहूंगा कि नानकदेव जी कबीर और ओशो के मध्य की श्रृंखला हैं . कबीर साहब ने आध्यात्म को वैराग्य पर खड़ा कर दिया था , रागियों के लिए कबीर साहब में कोई आशा नहीं . लेकिन नानक देव जी ने वैरागी और रागी दोनों को आशा दे दी .
     
    ओशो का आध्यात्म ' जीवन ' पर आधारित है उसका बीज गुरु नानकदेव जी ने बोया था ; जिसकी flowering , जिसका विकास , जिसका उत्कर्ष जो तुम आज ओशो में देखते हो . और ओशो के बाद निश्चित ही ओशोधारा उसी परम्परा को आगे ले जा रही है .
       
    और मेरे  लिए तो गुरु नानकदेव जी का विशेष महत्व है . 13 जनवरी 1997 की मध्य-रात्रि में उन्होंने मुझे " ओंकार " की दीक्षा दी . और तब से आज तक निरंतर उनकी कृपा  की बारिश मुझ पर  हो रही है . गुरु नानाकदेव जी से हमारा एक समझौता हुआ है कि मैं जितना बाटूंगा वह उसका दोगुना मुझे देंगे . मुझसे मेरे लोग कहते हैं आप इतना क्यों दिए जा रहे हैं ? क्योंकि इसी में मेरा फायदा है , मैं जितना तुम्हें दूंगा उसका दूना मुझे मिलेगा . इसलिए हम भी मुक्त-कंठ से तुम्हें  लुटाते चले जाते हैं . तो ओशोधारा के लिए मेरे अपने लिए गुरुनानक देव जी का बहुत महत्व है . मैं जानता हूं उनका  जो अनुदान है पूरी मानवता के लिए वह अनंत-अनंत काल तक याद किया जाएगा .


    Page    -    1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 
    21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 
    41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 
    61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75 76 77 78 79 80 
    81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100 
    116 117 118 119 120 121 122 123 124 125 126 127 128 129 130 
    131 132 133 134 135 136 137 138 139 140 141 142 143 144 145 
    161 162 163 164 165 166 167 168 169 170 171 172 173 174 175 
    176 177 178 179 180 

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad