बुधवार, 3 मार्च 2021

प्रज्ञा पर ज्ञान की धूलि - ओशो

 

Wisdom-on-wisdom-osho

मेरे प्रिय, 

    प्रेम। 

        जीवन है अनंत रहस्य। इसलिए जो ज्ञान से भरे हैं, वे जीवन को जानने से वंचित रह जाते हैं। उसे तो जान पाते हैं केवल वे ही जो कि सरल हैं और जिनकी प्रज्ञा पर ज्ञान की धूलि नहीं जमी है। 


रजनीश के प्रणाम
३-११-६९ प्रति : श्री नरेंद्र, जबलपुर