सोमवार, 1 मार्च 2021

संदेह नहीं तो खोज कैसे होगी? - ओशो

If-not-doubt-how-will-Osho-be-discovered


मेरे प्रिय, 

    प्रेम। 

        संदेह नहीं तो खोज कैसे होगी? संदेह नहीं तो प्राण सत्य को जानने और पाने को आकुल कैसे होंगे? ध्यान रहे श्रद्धा और विश्वास बांधते हैं, संदेह मुक्त करता है। 


रजनीश के प्रणाम
१५-९-१९७० प्रति : श्री शिव, जबलपुर