गुरुवार, 18 सितंबर 2014

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 106

 [ " हर मनुष्य की चेतना को अपनी ही चेतना जानो . अतः आत्मचिंता को त्यागकर प्रत्येक प्राणी हो जाओ . " ]


किसी वृक्ष के साथ बैठो और महसूस करो कि तुम वृक्ष बन गए हो . और जब हवा चलती है और पूरा वृक्ष डोलता है , झूमता है , तो उस कंपन को अपने भीतर महसूस करो . जब सूरज उगता है और पूरा वृक्ष जीवंत हो जाता है , तो उस जीवंतता को अपने भीतर महसूस करो . जब वर्षा होती है और पूरा वृक्ष संतुष्ट और तृप्त हो जाता है , एक लंबी प्यास , एक लंबी प्रतीक्षा समाप्त हो जाती है और वृक्ष परितृप्त हो जाता है , तो वृक्ष के साथ तृप्त और संतुष्ट अनुभव करो . और तब तुम वृक्ष के सूक्ष्म भाव-भंगिमाओं के प्रति सजग हो जाओगे .
       हर रोज कम से कम एक घंटे के लिए किसी भी चीज के साथ समानुभूति में चले जाओ . शुरू में तो तुम्हें लगेगा तुम पागल हो रहे हो . तुम सोचोगे , ' मैं किस तरह की मूर्खता कर रहा हूं ? ' तुम चारों ओर देखोगे और महसूस करोगे कि यदि कोई देख ले या किसी को पता लग जाए तो वह सोचेगा कि तुम पागल हो गए हो . लेकिन केवल शुरू में ही ऐसा होगा , एक बार समानुभूति के इस जगत में तुम प्रवेश कर जाओ तो सारा संसार तुम्हें पागल नज़र आएगा .  वे लोग बेकार में ही इतना कुछ चूक रहे हैं . जीवन इतने अतिरेक में देता है और वे इसे चूक रहे हैं . वे इसलिए चूक रहे हैं क्योंकि वे बंद है : वे जीवन को अपने भीतर प्रवेश नहीं करने देते . और जीवन तुममें केवल तभी प्रवेश कर सकता है जब कई-कई मार्गों से , कई-कई आयामों से तुम जीवन में प्रवेश करो . कम से कम एक घंटा हर रोज समानुभूति को साधो .
     मन की प्रार्थनापूर्ण दशा के लिए हर रोज एक घंटा अलग से निकाल लो और अपनी प्रार्थना को शाब्दिक मत बनाओ , उसमें भाव भरो . खोपड़ी से बोलने की बजाय अनुभव करो . जाओ और वृक्ष को छुओ , उसे गले लगाओ , चूमो ; अपनी आंखें बंद कर लो और वृक्ष के साथ ऐसे हो जाओ जैसे तुम अपनी प्रेमिका के साथ हो . उसे महसूस करो . और शीघ्र ही तुम्हें एक गहन बोध होगा कि अपने आप को छोड़ कर दूसरा बन जाने का क्या अर्थ है  .  


Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112