गुरुवार, 18 सितंबर 2014

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 105

 [ " सत्य में रूप अविभक्त हैं . सर्वव्यापी आत्मा तथा तुम्हारा अपना रूप अविभक्त हैं . दोनों को इसी चेतना से निर्मित जानो . " ]


न केवल यह अनुभव करो कि तुम इस चेतना से बने हो , बल्कि अपने आस-पास की हर चीज को इसी चेतना से निर्मित जानो . क्योंकि यह अनुभव करना तो बड़ा सरल है कि तुम इस चेतना से बने हो , इससे तुम्हें बड़े अहंकार का भाव हो सकता है , अहंकार को इससे बड़ी तृप्ति मिल सकती है . लेकिन अनुभव करो कि दूसरा भी इसी चेतना से बना है , फिर यह एक विनम्रता बन जाती है .
      जब सब कुछ दिव्य है तो तुम्हारा मन अहंकारी नहीं हो सकता . जब सब कुछ दिव्य है तो तुम विनम्र हो जाते हो . फिर तुम्हारे कुछ होने का , कुछ श्रेष्ठ होने का प्रश्न नहीं रह जाता , फिर पूरा अस्तित्व दिव्य हो जाता है और जहां भी तुम देखते हो , दिव्य को ही देखते हो . देखने वाला दृष्टा और देखा गया दृश्य , दोनों दिव्य हैं , क्योंकि रूप विभक्त नहीं हैं . सब रूपों के पीछे अरूप छिपा हुआ है .


Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112