शुक्रवार, 18 अप्रैल 2014

मुक्ति और उसके साधन


                  हमारे जीवन में धर्म,अर्थ,काम और मोक्ष नामक ये चार पुर्षार्थ आध्यात्मिक मूल्य रखते हैं. मोक्ष इनमे परम पुरुषार्थ माना  गया है. आत्यंतिक दुखनिवृति और परमानन्द कि प्राप्ति ही मोक्ष है ऐसा अद्वैत वेदान्तिक मानते हैं.यह ब्रह्म की ही स्वरूपभूत स्थिति  है. मोक्ष कोई नवीन प्राप्ति नहीं है यह तो आत्मा का स्वरूप है. हम अपने स्वरुप को जब जान लेते हैं तो यही मोक्ष कहलाता है. जीव अपने अज्ञान के आवरण के कारण ब्रह्मस्वरूप को नहीं जान पा रहा है और भावापन्न हो कर सुखी दुखी हो रहा है. जब ब्रह्मविश्यक ज्ञान से अज्ञान की निवृति हो जाती है तो वह अपने स्वरुपभूत स्थिति में आसीन हो जाता है. मोक्ष एक नित्यासिद्धि अवस्था का नाम है यह उत्पाद्य अर्थात उत्पन्न होना और विकार्य अर्थात नष्ट होने जैसी चीज नहीं है और न ही यह स्नास्कार्य अर्थात संस्कार है. यह अनित्य है.

अविद्या के कारण जीवत्व है और अविद्या की  निवृति से ही जीवत्वभाव का बाध हो कर शिवत्व अर्थात ब्रह्मस्वरूप कि प्राप्ति होती है.अविद्या का बंधन मिथ्या है और इस अविद्याबंधन के विघूनन से मोक्ष की  प्राप्ति होती है. यह किस प्रकार संभव है.? तत्वमसि आदि  ब्रह्मविश्यक वाक्यों से सम्यक ज्ञान की उत्पत्ति हो जाती है उसी समय सम्पूर्ण कार्य सहित अविद्या का बाध हो जाता है और जीव अपने स्वरुप ब्रह्म में स्थित हो जाता है. यही मुक्ति है यही परम पुरुषार्थ है.

 इस मुक्ति की दो अवस्थाएं है --जीवन्मुक्ति और विदेह्मुक्ति. ज्ञान होते ही शरीर का पात नहीं होता. अविद्याबंधन तो विदूरित  हो जाता है परन्तु प्रारब्ध कर्मो के कारण शरीर क्रिया बनी रहती है इस प्रकार ब्रह्म विषयक ज्ञान द्वारा अज्ञान का नाश हो चुकने पर प्रारब्ध कर्मों के शेष होने तक जीवित रहना ही जीवन्मुक्ति है और प्रारब्ध कर्मों का भोग समाप्त हो जाने पर जब शरीर का पात हो जाता है तब उस स्थिति को विदेह्मुक्ति कहते हैं.

 इस मुक्ति का साधन एकमात्र ज्ञान है. ब्रह्म विषयक ज्ञान ही ब्रह्म विषयक अज्ञान का निवर्तक होगा.अतः ब्रह्मज्ञान से ही अविद्या की निवृति होगी.यद्यपि "तत्वमसि", "अहं ब्रह्मास्मि " आदि वेदांत वाक्यों के श्रवण से ही साक्षात्कार ज्ञान का उदय होता है.फिर भी साधन-चतुष्टय संपन्न हो कर श्रवण-मनन -निदिध्यासन नहीं किया जाता तब तक साक्षात्कार वृति का उदय नहीं हो पाता. इसलिए साधन चतुष्टय से संपन्न होना जरूरी है. वे इस प्रकार है -- नित्यानित्य वस्तु विवेक ,इहमुत्रफल्भोग विराग ,श्मादिष्ट्कसंपत्ति,और मुमुक्षत्व .ब्रह्मवस्तु ही नित्य है अन्य सभी अनित्य है ,इस प्रकार विवेक ही नित्यानित्य विवेक है .सभी के प्रति वैराग्य की भावना ही विराग है. शम,दम ,उपरति तितिक्षा, समाधान और श्रद्धा -ये षटसंपत्ति है, मुक्ति की इच्छा ही मुमुक्षत्व है .

-ओशो बिपिन -

बुधवार, 9 अप्रैल 2014

Ohso Dhara Samadhi Karyakaram Schedule Apr 2014

 Place     Program     Dates     Level     Acharya
OAD Madhopur     Umang Pragya     3-5 Apr 14     U     Shobha, Shukla, Renuka
OND Murthal     Jyotish Pragya-2     3-5 Apr 14         Sadguru Trivir
OSK, Sirsa, Haryana     Dhyan Samadhi     7-12 Apr 14     1     Osho Priyanshi
OSK, Godda     Dhyan Samadhi     7-12 Apr 14     1     Osho Gyanamrit
OND Murthal     Gayan Pragya-1     7-9 Apr 14         Sadguru Trivir
OND Murthal     Param Pad     7-12 Apr 14     24     Sadguru Trivir
OGD Sauraha     Urja Samadhi     7-12 Apr 14     5     Osho Maitreya
OND Murthal     Celebration     8 Apr 14         Sadguru Trivir
OND Murthal     Umang Pragya     10-12 Apr 14     U     Sadguru Trivir
OSK, Ambala, Haryana     Anand Pragya     12-14 Apr 14     1A     Osho Suman
OSK, Jammu     Dhyan Samadhi     13-18 Apr 14     1     Osho Shekhar
OND Murthal     Osho Meditation Camp     13 Apr 14     OMC     Sadguru Trivir
OAD Madhopur     Osho Meditation Camp     13 Apr 14     OMC     Osho Gopal
OAD Madhopur     Dhyan Samadhi     14-19 Apr 14     1     Osho Gopal
OGD Sauraha     Atma Sumiran     14-19 Apr 14     8     Osho Maitreya
OND Murthal     Adwait Samadhi     14-19 Apr 14     11     Sadguru Trivir
OND Murthal     Atma Sumiran     14-19 Apr 14     8     Sadguru Trivir
OND Murthal     Yogacharya     21-26 Apr 14     4+     Sadguru Trivir
OND Murthal     Mudra Chikitsa     21-23 Apr 14     M2     Sadguru Trivir
OSK, Navashahar     Dhyan Samadhi     21-26 Apr 14     1     Osho Shekhar
OGD Sauraha     Chaitanya Samadhi     21-26 Apr 14     7     Osho Siddhartha
OSK, Navashahar     Dhyan Samadhi     21-26 Apr 14     1     Osho Shekhar
OND Murthal     Dhyan Samadhi     21-26 Apr 14     1     Sadguru Trivir
Ahmedabad     Dhyan Samadhi     22-27 Apr 14     1     Osho Pramod, Osho Yash, Osho Chetan
OND Murthal     Swasthya Pragya     24-26 Apr 14         Sadguru Trivir
OSK, Patna     Gayan Pragya     25-27 Apr 14     GP     Osho Dwij, Deogeet
Muktinath, Nepal     Yatra     27-28 Apr 14         Osho Siddharth
OSK, Patna     Dhyan Samadhi     27 Apr-2 May 14     1     Osho Prabhakar
OND Murthal     Reiki-1     28-30 Apr 14         Sadguru Trivir
OND Murthal     Anand Samadhi     28 Apr-3 May 14     9     Sadguru Trivir
OND Murthal     Reiki Acharya     28 Apr-6 May 14     R     Sadguru Trivir
OAD Madhopur     Dhyan Samadhi     28 Apr-3 May 14     1     Osho Shekhar
OGD Kathmandu     Gayan Pragya     28-30 Apr 14     GP     Osho Dwij, Deogeet

(सूचना : किसी भी कार्यक्रम को करने से पहले एक बार मुरथल आश्रम में अवश्य संपर्क कर लें.
फोन : 0130- 2483911/12,  3290388,  9671400196/3)

अवचेतन में इंस्टालेशन का रहस्य

The secret of installation in the subconscious


Yog baoddhik samajh me viswaas nahin karata. Yah sharirik samajh me viswaas rakhta hai; Ek samagra samajh me, Jisme tumhaari akhandta anternihit hoti hai. keval tumhara sir hi nahi badlta balki tumhaari antas'satta ke gahan srot bhi badal jaate hain.

. Yadi tum koi vishesh abhyaas satat roop se karte ho, bus use lagataar dohra rahe hote ho, dheere-dheere vah chetan man se gir jaata hai,

Avchetan tak pahunch jaata hai. aur uska hissa ban jaata hai. Ek baar vah jab Avchetan ka hissa ban jaata hai, to vah gahan srot se karyakarna aaranmbh kar deta hai.

. Koi cheej Avchetan ban sakti hai agar tum lagataar use dohraate jaate ho. Bachpan ke daouraan lagataar dohrao gahre utrta jaata hai kyon'ki bachche ke pass vastutah chetan nahi hai. Uske paas apna Avchetan jyaada hai--bus oopri hisse ke paas hi. Har cheej Avchetan me pravesh karti hai.

. Yog ke paas ek vidhi hai; vah vidhi 'abhyaas' kahlaati hai. 'Abhyaas' ka arth hai kisi cheej ko avirat dohraye jaane ki prakriya. lekin eisa kyun hai ki dohrao ke dwara koi cheej Avchetan ban jaati hai? Iske kuchh kaaran hain.

. Jab tum ek nishchit cheej ko dohraate jaate ho, jitna jyaada tum dohraate ho , utni jyaada yah Mastishk-Koshikaon par ankit ho jaati hai.

Aur jitna jyaada yah tumhaari Mastishk-Koshikaon ka hissa banta hai, chetna ki aavshyakta utni hi kam hoti hai. tumhaari chetna aage badh sakti hai, ab uski jaroorat nahin hai.isliye jo kuchh tum gahanta se sheekhte ho, tumhe uske prati sachet hone ki jaroorat nahin hoti hai.

. Shuru me jab tum driving sheekhte ho to caar chalaana ek sachet prayaas hota hai. isiliye yah itna kathin hota hai, kyunki tumhen lagataar sachet rahnaa hota hai.tumhe har cheej ke prati lagataar jaagruk hona hota hai. tum isme itne sammilit ho jaate ho ki yah kathin ho jaata hai. yah baat ek gahra pryatna ban jati hai.lekin dheere-dheere tum har cheej bhulaane yogya ho jaoge. tum driving karoge, lekin driving Avchetan ban jayegi. isme man ko laane ki jaroorat na rahegi. tum jis kisi cheej ke baare me chaho sonchte rah sakte ho, aur caar chalati rahegi Avchetan ki kshamta se.

. Jab kabhi kuchh itna gahra ho jaata hai ki tumhen uska hosh rakhne ki jaroorat na rahe,To vah Avchetan me ja pada hota hai. aur ek baar koi cheej Avchetan me pad jaati hai, to vah tumhaare hone ko , Jivan ko. Charitra ko parivartit karna shuru kar degi. Yah parivartan pryaasheen hoga ab, Tumhen is'se sambandh rakhne ki jaroorat nahin hai. Tum us disha me aage badhne lagoge jaha'n Avchetan tumhe'n le ja raha hai.


. Yoga ne bahut adhik karya kiya hai 'Abhyaas' par.Satat punraavratti. Yah satat dohrao hai maatra tumhaare Avchetan ko karya par le aane ke liye. Aur jab Avchetan karya karna shuru karta hai,Tum nischint hote ho, Kisi prayaas ki aavshykta nahin hai, Cheeje'n swaabhavik ban jaati'n hai'n.. Sant vah nahi'n hai jiske paas achha charitra hai,ya ki vah bura nahi'n karata hai.

. Sant vah hai jo bura nahi'n kar sakta, Jo uske baare me sonch bhi nahi'n sakta. Achchhai Avchetan ban gai hai, Vah saans jaisee ban gai hai. Jo kuchh bhi vah karne ja raha hai vah achchha hoga. Uske astitva me yah itne gahare utar chuki hai ki kisi prayaas ki aavshyakta nahi'n hai.

Vah uski jindgi ban chuki hai. Atah tum nahi'n kah sakte ki Sant ek achchha aadmi hota hai. Vah nahi'n jaanta ki kya achchha hai aur kya bura? Achchhai itni gahrai me pravesh kar chuki hai ki uske liye is bare mein jaagruk hone ki koi jaroorat nahi'n hai.

. Pahli baat-- Bahut lambe samay tak nirantar abhyaas. Lekin kitne samay tak ? yah nirbhar karega. Yah tum par nirbhar karega, ek-ek vyakti par. Agar pragaadhta samagra hai, tab yah bahut jaldi ghat sakta hai--Tatkaal bhi! Agar pragaadhta bahut gahan nahi'n hai,tab yah bahut jyaada lambaa samay legi.

. Pahli baat hai, Lambe samay tak ka satat abhyaas bina kisi rukao ke. Ise yaad rakhna hai. Agar tum apne abhyaas ka kram bhang karte ho, Agar tum kuchh dino'n ke liye ise karte ho aur kuchh dino'n ke liye ise chhod dete ho, to sara praytna kho jaata hai. phir jab tum shuru karte ho dobaara,to
phir yah ek shuruvaat hoti hai.

. Maine bahut se logo'n ko dekha hai prarambh karte, samaapt karte, phir prarambh karte. Vah kaam jo maheeno'n ke bheeter kiya ja sakta hai, ve use karne me kai varsh laga dete hai'n. To ise dhyaan me rakhna hai--Bina vyavadhaan ke. Jo kuchh bhi tum chuno, use apni sari jindgi ke liye chuno.

Bus us par hi chot karte jao. man ki mat suno. Man tumhe'n raaji karne ki koshish karega. aur man bada bahkaane vala hai. Man tumhe'n sab prakaar ke kaaran de sakta hai-- Jaise ki aaj tumhe'n abhyaas nahi'n karna chahiye kyunki tum beemar anubhav kar rahe ho; ya sir dard hai aur tum raat ko so nahi'n sake; ya tum itne jyaada thak chuke ho ki yah achchha hoga, agar tum aaram hi kar sako, lekin yah man ki chalaakiya'n hai'n.

. Man har us cheej ka virodh karta hai jo nai hai. To agar tum prayog me ho, Abhyaas mei'n, To man ki mat suno, Bus kiye chale jaao. Dheere-dheere yah naya abhyaas Avchetan me gahra utar jayega.Aur chetan iska virodh karna samaapt kar dega kyun'ki tab yah kahi'n aasan ho jayega. tab yah ek "Sahaj" prabhaao hoga man ke liye. Jab tak yah "Sahaj" pravaah na ban jaaye, ise rokna mat. . Tum bade prayaas ko vyarth kar sakte ho thodi-si susti dwara.

. Aur doosri baat, tumhe'n shraddha bhari nishtha ke saath abhyaas karna chahiye. Tum abhyaas kar sakte ho yaantrik dhang se, Bina kisi prem ke, Bina Nishtha ke, Uske prati Paavanta ki anubhuti ke bina.Tab isme bahut lamba samay lagega, kyunki keval Prem dwara cheejein aasani se tumhaare bheeter utarti hai'n.Nishtha ke dwara tum khule hote ho, Jyaada khule. Beej adhik gahre girta hai.

. Atah abhyaas mat karo bina Nishtha ke, kyunki tab tum anavashyak roop urja gava'n rahe ho. Bahut ghatit ho sakta hai isme se, Agar Nishtha vaha'n ho. . Kya hai antar? Prem aur Kartavya ke beech ka. Kartavya vah kuchh hai, jise tumhe'n karna padta hai. Tum aanandit nahi'n hote use karte hue. Tumhein kisi tarah use dhona padta hai, Tumhein use jaldi samaapt karna hota hai. Vah to bus baahari kaam hai. Aur agar yahi hai mano'vritti, Tab yah kaise tumhare Bheeter[Avchetan me] utar sakta ha

. Prem koi Kartavya nahi'n hai,Tum usme ras lete ho.Uske anand ki koi seema nahi'n hai, Use samaapt karne ki koi jaldi nahi'n hai. Jitni der vah hota hai utna hi achchha. Vah kabhi kaafi nahi'n hota. Hamesha tum anubhav karte ho ki tum kuchh jyaada karna chahate ho, Kuchh aur jyaada. Yah hamesha apoorna hai.Agar yah abhivritti hai, Tab cheejein tum'me gahari chali jaati'n hai'n.Beej adhik gahari bhumi mein pahunch jaate hai'n. Aur Nishtha ka matlab hai, Tum us 'khaas abhyaas' ke Prem me pade hue ho-- 'Ek vishista Abhyaas'.

. Gahri shraddha ke saath parinaam turant peechhe-peechhe chale aa sakte hai'n.

. Jaha'n tum ho, us kshan ka aanand manaao bhavishya ki poochhe bina. koi bhavishya man mein nahi'n hona chahiye. keval vartmaan kshan ho, kshan ki vartmaanta, aur tum santushta hote ho. tab kahi'n jaane ki koi aavshyakta nahi'n hai. jaha'n tum ho usi bindu se, usi kshan hi, tum sagar me gir jaaoge. tum Brahmmaand ke saath ek ho jaaoge.

PARAM SADGURU PYARE OSHO [Patanjali Yoga Sutra Part 01]

अपने जीवन का सॉफ्टवेयर स्वयं बनाएं

अपने जीवन का सॉफ्टवेयर स्वयं बनाएं .

अपने जीवन का सॉफ्टवेयर स्वयं बनाएं

कंप्यूटर और हमारे जीवन का सिस्टम एक जैसा है. कंप्यूटर की बॉडी, बॉडी में हार्डवेयर, हार्डवेयर में सॉफ्टवेयर. इसी प्रकार हमारा शरीर, उसमे स्थित ब्रेन स्पाइनल कार्ड और पूरा नेर्वुस सिस्टम है उसका हार्डवेयर और उसकी प्रोग्रामिंग मन उसका सोफ्टवेर, और उसका प्रगटीकरण उसके मॉनिटर {संसार} में होता है. जैसे मॉनिटर सबके अलग-अलग होते है, उसी प्रकार हम सबके संसार भी अलग-अलग होते है. . संसार'रुपी मॉनिटर वही दर्शाता है जैसी हमारे अवचेतन में प्रोग्रामिंग है, जैसे अगर दुःख की प्रोग्रामिंग है तो संसार'रुपी हमारा मॉनिटर दुःख को ही प्रगट करेगा, यदि आनंद की प्रोग्रामिंग है तो आनंद प्रगट करेगा. सार-सूत्र यह है बहार संसार'रुपी मॉनिटर में जो भी प्रगट हो रहा है वह आपके भीतर अवचेतन की प्रोग्रामिंग से आ रहा है.

और हमारे लिए खुशखबरी है कि हम अपने अवचेतन में फिर से रेप्रोग्रम्मिंग कर अपने संसार को सुंदर बना सकते है. क्योंकि हमारा अभी जो जीवन है वह जाने-अनजाने अतीत की फीडिंग के कारण है.अतः हम एक संतुलित अपने जीवन का सॉफ्टवेयर बनायें -- जिसमे हमारा संपूर्ण विकास हो, अर्थार्थ पूर्ण भौतिक समृद्धि हो और पूर्ण आंतरिक समृद्धि हो. हमारे पास प्रचुर धन हो, प्यारे मित्र हो'न, हमारी सुन्दर और हमसे मैच करती हुए पत्नी/पति हो, हम घर-परिवार और समाज में अपना सहयोग कर सकें,और भीतर से परम शांत हो'न. यही है संपूर्ण मनुष्य, जिसे हमारे परम सद्गुरु प्यारे ओशो- "जोरबा द बुद्धा कहते है. और "जोरबा द बुद्धा" हमारी नियति है, हमारा जन्म'सिद्ध अधिकार है,हमें कोई सृजन नहीं करना है, हमें तो जागकर इसका आविष्कार करना है. . ऐसा सॉफ्टवेयर अस्तित्व के अनुकूल होगा, और अस्तित्व इसे सहज प्रगट कर देगा.. पर इसको इनस्टॉल करने का राज है--और वह है इसे अवचेतन की परम गहराई में इनस्टॉल करना,वह हमारा रचनात्मक क्षेत्र है, वहीँ से सारे ब्रहम्माण्ड की रचना होती है. उसी गहराई में जाकर हम जैसा जीवन चाहते है उसे फ़िल्म रूप में घटते हुए देखना होता है, अर्थार्थ हमें अपनी संकल्पना को इतनी अधिक संवेदन'शीलता के साथ चित्रात्मक रूप में देखना होता है कि जैसे हम यथार्थ में उसको जी रहे है'न. . सम्मोहन के द्वारा हम अपने अवचेतन में जीवन के सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल कर सकते हैं. .

सम्मोहन हमारी सहज स्वाभाविक शक्ति है.. डॉ.मिचेल नेव्तोन कहते है'न-- आल हिप्नोसिस इस सेल्फ हिप्नोसिस, सारा सम्मोहन स्वयं का सम्मोहन है.. रात्रि नींद में हम सहज ही सम्मोहन की अवस्था में चले जाते है.हम चाहें तो नींद का उपयोग अपने सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल करने में कर सकते है.. हम कुछ मित्र ऐसा प्रयोग कर रहे है--हमने सजगता'पूर्वक 'जोरबा थे बुद्धा' को ध्यान में रख- कर अपने जीवन का सॉफ्टवेयर बनाया है, जिसे हमने गाते हुए अर्थार्थ लयबद्धता में उसे गुनगुनाते हुए रिकॉर्ड कर लिया है, रोज सोते समय उसे रिपीट मोड में लगाकर सो जाते है,सुबह जागने पर वह चलता रहता है, दिन में जब समय मिलता है तो अपने को भाव पूर्ण सुझाव देकर उस सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल करते रहते है,शेष समय इंद्रियों के प्रति खूब संवेदनशील होकर क्षण-क्षण इस आभाव में जीते है की हमारी संकल्पना पूरी हो गई है. प्रगट करते रहते हैं.हम जो संकल्पना कर रहे है उस'से सम्बंधित रास्ते बन'ने लगे है,आप भी ऐसा प्रयोग करे और अपने अनुभव हमें [ नींद में भी आकर्षण की शक्तिंया'न सोने से पहले के हमारे आखिरी विचारू'ं पर काम करती है'न, इसलिए सोने से पहले अच्छे विचार करें] [ आपको वही मिलता है जो आप अवचेतन को महसूस करा पाते है न कि वह जिसके बारे में आप सोच रहे है]

[यह कैसे होगा या ब्रहम्माण्ड उस चीज को आप तक कैसे पहुचायेगा, यह चिंता करना आप का काम नहीं है.यह तो ब्रहम्माण्ड का काम है. उसे अपना काम करने दें. जब आप यह पता लगाने की कोशिश करते है की यह काम कैसे होगा, तो आप के द्वारा भेजी जाने वाली फ्रेक्वेंसी में आस्था का अभाव होता है. इससे लगता है कि यह काम भी आप को करना है और आपको इस बात पर यकीन नहीं है की ब्रहम्माण्ड उस काम को आप के लिए अपने आप कर देगा. रचनात्मक प्रक्रिया में कैसे के बारे में सोचना आपका काम नहीं है.

एक बार आप ओशोधारा का सम्मोहन प्रज्ञा प्रोग्राम कर ले. वहां "प्यारे सद्गुरु त्रिविर" के द्वारा आप को नै-नई तकनीक इंस्टालेशन की पता चलेंगी,जो आपके अनुकूल लगे उसका घर आकर आप अभ्यास करें. क्योंकि हमारी "ओशोधारा" में मनुष्य के संपूर्ण विकास पर खोज चल रही है,और नित-नूतन नै- नई तकनीक खोजी जा रही'ं है'न. जिसे हम आसानी से "जोरबा द बुद्धा" को उपलब्ध हो सकें..

ओशो जागरण

अनहद को न जानना ही नरक है

अनहद को न जानना ही नरक है

अनहद को न जानना ही नरक है

बाजत अनहद ढोल रे "रास गगन गुफा में अजर झरे'न. बीन बजा झंकार उठे जह'न समुझि पर जब ध्यान धरे" 'सुनो भाई साधो' प्रवचन माला में परम सद्गुरु प्यारे ओशो कहते है :- कोई बाजा नहीं'न, कुछ बाज नहीं'न रहा, कोई टकराहट नहीं'ं और अनंत ध्वनि का उद्घोष हो रहा है.उसका नाम ओम्कार है. सारे संसार में जब कोई दशवे'न द्वार [क्राउन सेण्टर] पर पहुँचता है तो वह ध्वनि सुनाई पड़ती है हिन्दुओ'ं ने उसे 'ॐ' कहा है. मुस्लमान,क्रिस्टियन,यहूदी उसे 'ोमिन' कहते है'न जब समझ में आने लगता है तब जब समझ में आने लगता है तब आदमी उस पर ध्यान धर्ता है . बज तो वह सदा रहा है . वह झंकार तो गूँज ही रही है,वह झांकर ही तुम हो. वह झंकार इस समय भी तुम्हारे भीतर गूँज रही है, जब सद्गुरु की कृपा से समझ में आता है तो उस तरफ हमारा ध्यान जाता है.

दोपहर की शांति. उजली धूप और पौधे सोये-सोये से. एक जामुन की छाया तले दूब पर आ बैठा हो'न. रह-रहकर पत्ते ऊपर गिर रहे है'न -- अंतिम, पुराने पत्ते मालूम होते है'न. सरे वृक्षो'न पर नै पत्तिया'न आ गई है'न. और नै पत्तियो'ं के साथ न मालूम कितनी नै चिड़ियों'ं और पछियो'ं का आगमन हुआ है. उनके गीतों'ं का जैसे कोई अंत ही नहीं'ं है. कितने प्रकार की मधुर ध्वनियां'न इस दोपहर को संगीत दे रही है'न,सुनता हु'ं और सुनता रहता हूँ'ं और फिर मै भी एक अभिनव संगीत लोक में चला जाता हो'न." स्व" का लोक संगीत का लोक ही है. यह संगीत प्रत्येक के पास है. इसे पैदा नहीं'न करना होता है. वह सुन परे, इसके लिए केवल मौन होना होता है. चुप होते ही कैसा एक पर्दा उठ जाता है! जो सदा से था, वह सुन पड़ता है और पहली बार ज्ञात होता है की हम दरिद्र नहीं'ं है'न. एक अनत संपत्ति का पुनर'अधिकार मिल जाता है. फिर कितनी हंसी आती है - जिसे खोजते थे, वह भीतर ही बैठा था.

प्यारी शिरीष, प्रेम. शून्य में प्रवेश के पूर्व अति-सूक्ष्म शब्द की अनुभूति होती है. वह शब्द अर्थातीत, पर अपूर्व शांति'दै होता है. ध्वनि-तरंगे [साउंड वेव्स] अस्तित्व के संगठक विद्युत्कण-तरंगो'न [क्वांटा] के लयबद्ध नृत्य में फलित होती है'न. अस्तित्व का परमाणु-परमाणु अनंत नृत्य में'न लीं है. बहार-भीतर समस्त आयामों'न [डाइमेंशन्स] में'न अनादि-अनंत संगीतोत्सव चल रहा है.हम उलझे होते है'न व्यर्थ के दैनन्दिन शोर'गुल में'न, इसलिए उस संगीत का साक्षात्कार नहीं'न हो पता है. ध्यान में'न -- जो सदा है, उसकी पुनः प्रतीति प्रारम्भ होती है. उस द्वार के ही तू निकट है, इसलिए अहर्निश नाद की वर्षा हो रही है. उसमे ज्यादा-से-ज्यादा लीं हो -- उसे ज्यादा-से-ज्यादा सुन और उसमे डूब. यही मूल शब्द है. यही बीज मंत्र है. यही वेद है. और, इसके भी पार जो है, वही ब्रह्म है. के : एक पत्र में आपने लिखा था, वह याद आया-- "जीवन को संगीत पूर्ण बनाओ, ताकि काव्य का जन्म हो सके. और फिर सौंदर्य ही सौंदर्य है, और सौंदर्य ही परमात्मा का स्वरुप है." क्या आप संगीत, काव्य और सौंदर्य पर कुछ कहना चाहेंगे? अंततः सब कुछ परमात्मा मय हो जाये, इसके लिए क्या यह तीन बातें साधनी है ?

ओशो : साधना एक है, शेष दो अपने आप चले आते है. शेष दो परिणाम है. बीज तो एक ही बोना है, फिर उस बीज में बहुत से पत्ते लगते है, बहुत शाखायें-प्रशाखाएं, फल और फूल. बीज एक ही बोना है. एक ही साधना है-- "इक साधे सब साढे, सब साधे सब जाये". तीन को साधने में पारो, उलझ जाओगे. क्योंकि वे तीन भिन्न-भिन्न नहीं'ं है'न, वे एक दुसरे से सम्बंधित है'न, एक की ही शृंखला है'न. संगीत साधना है. संगीत की साधना से अपने आप काव्य का आविर्भाव होता है. काव्य है संगीत की अभिव्यक्ति. काव्य है संगीत की देह. और जैसे ही संगीत का जन्म होता है, वैसे ही सौंदर्य का बोध होता है. संगीत की संवेदनशीलता में ही जो अनुभव होता है अस्तित्व का, उस अनुभव का नाम सौंदर्य है. काव्य है- देह संगीत की, सौंदर्य है- आत्मा संगीत की. तुम साधु एक संगीत, फिर ये दोनों-- देह और आत्मा अपने आप प्रकट होने शुरू होते है. ध्यान रहे--संगीत से मेरा अर्थ स्थूल संगीत से नहीं है. क्योंकि स्थूल संगीत को साधने वाले तो बहुत लोग है : न तो वह'ं काव्य है, न वह'न सौंदर्य है, न कोई परमात्मा की प्रतीत हुए है. होंगे वे वीणा बजाने में कुशल, लेकिन अंतर की वीणा नहीं'न बजी है. जगा लिए होंगे उन्होंने स्वर तारो'ं को छेड़कर , लेकिन प्राणो के तार अभी नहीं'न छिरे है'न.हो गए होंगे कुशल, ध्वनि को जन्मने में; लेकिन वह कुशलता बहार की कुशलता है.

संगीत से मेरा प्रयोजन अन्तः'संगीत से है-- हृदय की वीणा पर जो बजता है; प्राणों की गुहा में जो गूँजता है; अंतरतम में जो जगता है.उस संगीत को ही संतो ने "अनाहत नाद कहा" है. वीणा छेरकार एक संगीत पैदा होता है, वह अनाहत'नाद नहीं'ं है, वह आहत नाद है; क्योंकि छेरना परता है, चोट करनी परती है; टैंकर से पैदा होता है-- इसलिए आहात. लेकिन संतों ने समाधी में एक ेऐसा नाद सुना, जिसका न कुछ प्रारम्भ है और न कोई अंत है. समाधी में एक ेऐसा नाद सुना, जिसको झेन फकीर कहते है-- एक हाँथ की बजाई गई ताली. बहार तो दो चाहिए ही, तभी ताली बजेगी. मगर भीतर एक अपूर्व घटना घाट'ती है. वह'न तो दो है ही नहीं'न, फाई भी नाद पैदा होता है. उसी को इस देश में हमने "ओमकार" कहा है. उसी का प्रतीक है 'ॐ'. यह 'ॐ' महत्वपूर्ण प्रतीक है.इसका कोई अर्थ नहीं है, यह सिर्फ प्रतीक है. प्रतीक है उस अन्तर'ध्वनि का, जो बज ही रही है, जो तुम्हें बजानी नहीं'ं है. तुम भीतर जाओ और सुनो. तुम थोड़ा ठहरो. तुम थोड़े शांत हो जाओ. तुम्हारे मष्तिष्क में चलता कोलाहाल थोड़ा रुके. और अचानक चकित होकर पाया जाता है कि यह स्वर तो सदा से गूंज रहा था, सिर्फ मई इतना व्यस्त था बहार, की भीतर की न सुन पाया !

यह स्वर बारीक़ है, सूक्ष्म है. यह स्वर ही तुम्हारी आत्मा है. यह संगीत ही तुम हो जो बज रहा है. यह अनाहत है. न वह'न ज्ञाता है, न ज्ञेय है. न वह'न द्रष्टा है, न दृश्य है. वह'न सब द्वैत खो जाता है. वह'न एक ही बचता है. उसे एक भी कैसे कहे'न ? जहा'न दो न हो'न, वह'न एक का बहुत अर्थ नहीं'न होता. इसलिए ज्ञानियों'ं ने उसे एक भी नहीं कहा, कहा- अद्वैत. इतना ही कहा कि दो नहीं'ं है'न वह'न, बस; निषेध से कहा. क्योंकि विधेय से कहेंगे तो कही'न तुम भाषा की उलझन में न पड़ जाओ. अनाहत-नाद को ही मैं संगीत कह रहा हो'न. इस संगीत को सुनते ही तुम्हारा जीवन काव्य'मय हो जाता है. फिर काव्य से अर्थ नहीं'ं है की तुम कविता लिखो तो काव्य. अनहत के सुमिरण में उठना-बैठना, खाना-पीना, तुम्हारा हर कृत्य काव्य हो जाता है. बुद्ध उठते है तो काव्य है, बैठते है'न तो काव्य है. अनहत के सुमिरण में जीने वालों'ं के हर कृत्य में एक प्रसाद है, एक लालित्या है, एक अपूर्व उपस्थिति है- पारलौकिक, दैविक ! जो इस पृथ्वी की नहीं मालूम होती. जैसे मिट'टी में अमृत उतर आया हो. अनहत के सुमिरण में जीने वालों'ं का जीवन परम छंद'मय हो जाता है.

परम सद्गुरु प्यारे ओशो

I Am Seeing My Past 76 Incarnations

http://2.bp.blogspot.com/-i3QBdMqIdqA/UqtuXDf9gwI/AAAAAAAABEQ/_QmF12Aeb3Q/s1600/I+Am+Seeing+My+Past+76+Incarnations.jpgOSHODHARA ME AANE SE PAHLE JIN SANT SE MAI JUDA RAHA, DATE11 DEC. 06 KO, OSHO KE JANMDIN PAR UNHONE SHARIR TYAG DIYA. 90 VARSH KI AAYU ME JAB VE SHARIR TYAG RAHE THE, TAB MAI UNKE PAAS THA. US RAAT DIVYA SANTO'N KI UPASTHITI KA MUJHE PRATYAKSH ANUBHAV HUA. MAHARAAJ JI KAI BAAR BADE SAHAJ HI POORVAJANMO'N AUR DDOSRE LOKO'N KE BAARE ME BATAYA KARATE THE. ISLIYE APNE POORVA JANM KO JANNE KI BADI UTSUKTA THEE. MAY 2009 SE PAHLE TAK VAHI MERE SPIRIT GUIDE THE AUR USKE BAAD SE PYARE SADGURU SHRI O0SHO SIDDHARTHA JI MERE GUIDE HAI. MAINE OSHODHARA KA MAHAJEEVAN PRAGYAKARYAKRAM 8-BAAR KIYA HAI AUR KARTA JA RAHA HOO'N. AB TAK MAINE 24 JANMO KO JAAN LIYA HAI. JO IS PRAKAAR HAI ---  



VRAKSH YONI EK JANM ME MAINE SWYAM KO AAM KE PED KE ROOP ME DEKHA. JISKE PAAS MAINE EK GULAB KE PHOOL KO BHI DEKHA.EK AUR JANM ME MAINE SWYAM KO SUNSAAN REGISTAAN ME EK PED KE ROOP ME DEKHA. JO EK JOORDAAR TOOFAAN ME GIR GAYA. KEET EWAM NAAG YONI ME>>>>>>>> PANI KE EK CHHOTE SE KEEDE KE ROOP ME MAINE APPNA EK AUR JANM DEKHA.USKE BAAD EK UDNE VAALE KEEDE KE ROOP ME SWYAM KO DEKHA. NAAG ROOP ME MAINE APNA EK AUR JANM DEKHA. MAI APNI NAAGIN KO BAHUT PREM KARTA THA. SHIVLING KE AAS-PAAS MAINE PRAAN TYAGE.






PACHHI YONI ME PACHHI YONI ME MUJHE APNE DO JANM DIKHE. EK CHIDIYA AUR DOOSRE TOTE KA.  

















JAANVAR YONI ME EK DOG KE ROOP ME JISE BADA HOTE HUA BHI DEKHA. EK REECHH KE ROOP ME PAYA, JISKI MRITYU JANGAL ME KHAYII ME GIRNE SE HUAE. BAIL KE ROOP ME BHI MAINE APNA EK JANM DEKHA, JISME MERI MRITYU VRADDHAVASTHA ME HUYE.  







MANUSHYA YONI ME JAIN KE 8VE TEERTHANKAR BHAGWAN CHANDRAPRABHU KE SAMAY ME MAINE APNA EK MANUSHYA JANM DEKHA. USKI SHKLA BHI MUJHE NAZAR AAYEE.UNKE CHARO'N TARAF EK RAJAT- ROSHNI THEE. EK AUR JANM ME KHUD KO EK ZEN FAKEER KE SAATH PAYA. BABA BALAKNATH KI MANDLI ME BHI EK JANM ME SWYAM KO DEKHA. EK JANM ME EK ANGREJ LADKI THA,JO BAAD ME NAN BAN GAYI. EK KHAAS BAAT JAB MAI NAAG THA TAB MAINE KISI KO DASA THA.USI KARAN-VASH EK JANM MERI MRTYU SARP-DANSH SE HUI. EK AUR JANM ME MAINE KHUD KO EK MAHAL ME PAYA. VAHA'N PEELEY VASTRO'N ME JATA DHARAN KIYE KUCHH LOG BAITHE THE. MUJHE BATAYA GAYA KI YAH KING JANAK KA DARBAAR HAI. MAI UNHE AAJ BHI PAHCHAAN SAKTA HOO'N. TEEN JANMO'N ME MAI SUFI THA.EK JANM IRAN ME AUR DO BHARAT EWAM PAKISTAN ME.MUJHE URDU NAHI AATI ISLIYE NAAM NAHI'N PADH PAYA. GURU RAMDAS JI AUR GURU ARJUN DEV JI KE SAMAY ME BHI KHUD KO DEKHA. GURU GOVIND SINGH JI KO GHODE PAR BAITHA PAYA. US SAMAY MAI SHAREER ME NAHI'N THA. SHAYAD, MERI MRITYU YUDDH ME HO CHUKI THEE. PARANTU EK BAAT SPAST THEE KI VAHI MERE LIYE SAB KUCHH THE AUR HAI BHI. VAHA'N PANIPAT KE KALANDER "BOO ALI SHAH" BHI THE. MAI ANEK SANTO'N KI PARAMPARA ME RAHA HOO'N.MUJHE BATAYA GAYA KI ALAG-ALAG JANMO'N ME MAINE ANEK PRAKAR KI SAADHNAYE KI HAI. APNE SHARIR KI KAI VYADHIYO'N KO MAINE MAHAJIVAN KE BAAD THEEK HOTA MAHSOOS KIYA. MUJHE BAAR-BAAR CHOT LAGATI THI. JISKA KARAN BHI PICHHLE JANM SE JURA THA. KUCHH SAMAY PAHLE EK LADKI SE MERI MITRTA HUI HAI.SAN 1821 ME MERA NAAM SULOCHAN THA AUR USKA VIMALKANTA. US SAMAY MUJHE SADHNA KARNI THI AUR JITNI KI THI USKA AHANKAR BHI THA.SO USE ASWEEKAR KAR DIYA AUR KARMBANDH NIRMIT HUA. AB SPIRIT WORLD ME JAKAR USKE MOTHERCRAFT SE SAMPARK KIYA TO USNE SIRF ADHYATMIK RISHTA HI SWEEKARA. JAISA MAINE PAHLE KIYA THA VAISA HI PHAL MILA. YAH VAHI GULAB KA PHOOL HAI JISKA JIKRA PAHLE MAI KAR CHUKA HOO'N. MUJHE SANT RAMANAND JI KE DWARA BANAYA GAYA MAHAKALI KA MANDIR DIKHA THA. KAREEB 3 MAAH PAHLE KUCHH OSHODHARA KE MITRO KE SAATH DELHI JA RAHA THA. MERE SPIRIT GUIDE NE BANGLA SAAHIB JANE KI PRERNA DI. EKAEK RAASTE ME KALI MANDIR DIKHA. VAH BAND THA. PHIR BHI HAME VAHA'N BAITHNE KA MOUKA MIL GAYA. KUCHH DER DHYAN ME BAITHE AUR EK MERE MITRA KO VISION AAYA KI MAI VAHA'N PAHLE BHI AA CHUKA THA.AUR PICHHLE JANM ME VAHA'N APNI SHAKTIYA'N CHHOD AAYA THA AUR KAHA THA AGLE janm medobara aakar apni shaktiya'n vapas le jaunga tatha pata chala vartman me sabhi shaktiya'n pyare bade sadguru ji ke paas chali gai hai,aur tumhe sirf unhi ke saat ab yatra karni hai.  



anya graho'n par porva janmo'n ki yatra ke daoraan maine swyam ko dosre graho'n par bhi paya. ek baar to garun ki tarah mere pankh the aur shkla manushya ki, aur ek janm me machhli ki tarah pair aur dhad manushya ka, mai pani me hi rahta tha.  




spirit world ki sair spirit guide ki kripa se ek adbhut drshya dikha. charo taraf barf jaise ekdam white colour ki spirit ban rahi thi, jinke upar ek bahut badi white spirit ghoom rahi thi. jiska kendra light blue tha. vah vaha'n ki adhisthata thi aur uske upar bahut unche sthan par ek aur spirit thi. mere guide ne kaha yaha'n se tumhari shuruvat hai.maine apni spirit ko bante hue dekha aur sanket mila ki un sab me mai ek bulbule ke roop me kaha'n hoo'n. yah dayi'n taraf ka drshya tha aur bai'n taraf ek sunsaan tha tha, jaha'n ke bare me itna hi kah sakta hoo'n ki vaha'n ek poorna thahrav tha,beyond of time. mere guide ne bataya ki shoonya se sab aata hai aur shoonya me sab chala jata hai. vaha'n spirit dissolve ho chuki thi. us taraf mujhe saaf-saaf mahsoos hua ki time jhoont hai, vah hota hi nahi'n. vaha'n bhagwan buddha ke aagyaa chakra se safed roshni phoot rahi thi aur unhone mujhe wheel of life dikhaya aur samjhaya bhi.maine use pahle kabhi nahi'n dekha tha. unhone kaha shuddh gyaan yahi hai ki shristi to anant hai, par kendra to tum hi ho. aur sabka satya yahi hai. hum sabhi urja ka kuchh ansh lekar hi aate hai. baaki mothercraft ke roop me surakshit rahta hai. yah prashna kiya to pata laga ki is samay mere paas 40% urja hai. jise baad me ghataya ya badhaya bhi ja sakta hai. aur meri spirit ne parallel kahi'n aur janma nahi'n liya hai. mrityou ke baad jab upar ja raha tha to meri speed bahut tej thi. sadguru pyari maa osho priya ji ko ek devi ke roop me paya. sapt-rishiyo'n ke darshan kiye. par pyare sadguru osho shailendra ji ne mujhe amrut bodh karaya. anek santo'n ke darshan kiye.
par mujhe pyare bade sadguru shri osho siddhartha ji se milna tha. vaha'n ek mandir dikha. us omkar roopi mandir me gurudev hi mandir the, vahi pujari, vahi bhagwan. yaha'n aakar spast dikha ki omkar hi sadguru hai, sadguru hi omkar. maine kisi aur ko vaha'n nahi dekha. maine swayam ki spirit ko baar-baar dekha ki vah white colour ki light nelima liye hai. aur ek eaisa lok, eaisa mandal bhi dekha jaha'n surya chandrama ki tarah sheetal prakash deta hai, bilkul mere mothercraft ki tarah.anek galaxies dikhi aur "makka-madina" ko vahi'n se dekha. "golden temple" vahi'n ke ek divya-bhawan ki abhivyakti hai. kai baar sagmarmar ke bane tajmahal ke jaise bhawan me bhi gaya. spirit world me bahut se jharne phoot rahe the, jo anand ke parichayak hai'n. yah bodh hua ki bhagwan shri krishna ka sudarshan chakra bhi samay ki maya ka pratek hai, aur pyare bade sadguru ji ka krishnatava akhand hai. gurunanak dev ji bhi unke sath golden prakash ke roop me the. yaha'n adwait ki pratet hui. pyare chhote guru ji aur sufi baba bhi bhagwan shiv ke pratek hai'n. ek prakash punja ke roop me ek ladki chakki chalati dikhi.maine usse baad me milne ka vayda bhi kiya. 5-varsh pahle meri bahan ki mrityou hui thi.use spirit world me paya uska janma abhi tak nahi hua hai. apne liye sandesh poonchha tab jana guru ko hi shiv jano, guru ke sharir ko kailash jano. guru-bhakti hi shrestha hai. mere spirit guide ne bataya ki guru ka sammaan karo, guru par shraddha karo, hradaye me jiyo. enlighten world {vishnu lok} se mujhe bataya gaya ki "oshodhara" hi aaj ke manushya ka bhavishya hai. param sadguru pyare osho ji ne hamesha pramanik aur bebaak rahane ko kaha.