Header Ads

  • New Post

    सिद्धार्थ उपनिषद Page 34


                               

    सिद्धार्थ उपनिषद Page 34


    (136)


    संसारी संसार में उलझ जाता है, भक्त भगवान में उलझ जाता है, संत कहीं नहीं उलझता. उसकी जिंदगी सुलझी होती है. उसके लिए संसार और भगवान का भेद मिट जाता है. वह अद्वैत में जीता है. क्या बाहर, क्या भीतर, वह सदा मस्त रहता है.

    (137)


    अध्यात्म के मुख्य दो आयाम हैं -'सगुण और निर्गुण. सगुण में विभिन्न अवतार- ब्रह्मा-विष्णु-शिव,गणेश , इंद्र आदि देवताओं की आराधना का प्रावधान है. निर्गुण में निराकार, ओंकार, घटाकाश, महाकाश, सह्जकाश की आराधना है. सगुण में पूजा है, यज्ञ है, आरती है, मूर्ति है, तीरथ है, व्रत है, अनुष्ठान है,मन्त्र है, गौडी भक्ति है, वर्णात्मक नाम का सुमिरन है. निर्गुण में ध्यान है, समाधि है, परा भक्ति है, सतनाम सुमिरन है. सनातन धर्म में निर्गुण और सगुण दोनों का मणिकांचन समन्वय है. धर्म के प्रति  यही समग्र दृष्टी भी है.

    (138)


    साधना का आरम्भ ध्यान से है, समाधि मध्य में है और सुमिरन शिखर है. ध्यान अर्थात निराकार के प्रति जागना. समाधि अर्थात अंतराकाश के प्रति जागना. सुमिरन अर्थात ओंकार के प्रति जागना.

    (139)


    आत्मा से जुडना ज्ञान है. परमात्मा अर्थात हुकमी से जुडना भक्ति है. हुकमी और हुकम (ऋत, ताओ, परम नियम) दोनों से जुडकर जीना संतत्व है.


    Page    -    1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 
    21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 
    41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 
    61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75 76 77 78 79 80 
    81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100 
    116 117 118 119 120 121 122 123 124 125 126 127 128 129 130 
    131 132 133 134 135 136 137 138 139 140 141 142 143 144 145 
    161 162 163 164 165 166 167 168 169 170 171 172 173 174 175 
    176 177 178 179 180 

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad