मंगलवार, 25 मई 2021

समय न खोओ - ओशो

 

Do-not-lose-time-Osho

प्रिय कृष्ण चैतन्य, 

    प्रेम। 

            शक्ति को कब तक सोई रहने देना है? स्वयं के विराट से कब तक अपरिचित रहने की ठानी है? दुविधा में समय न खोओ। संशय में अवसर न गंवाओ। समय फिर लौट कर नहीं आता है। और, खोए अवसरों के लिए कभी-कभी जन्म-जन्म प्रतीक्षा करनी होती है। 



रजनीश के प्रणाम
२६-११-१९७० प्रति : स्वामी कृष्ण चैतन्य, विश्वनीड, संस्कार तीर्थ, आजोल, गुजरात