सोमवार, 22 सितंबर 2014

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 41

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 41

["तार वाले वाद्यों को सुनते हुए उनकी संयुक्त केन्द्रीय ध्वनि को सुनो ; इस प्रकार सर्व व्यापकता को उपलब्ध होओ ."]


तुम किसी वाद्य  को सुन रहे हो-- सितार या किसी अन्य वाद्य को . उसमें कई स्वर हैं . सजग होकर उसके केन्द्रीय स्वर को सुनो-- उस स्वर को जो उसका केन्द्र हो और जिसके चारों ओर और सभी स्वर घुमते हों ; उसकी आंतरिक धारा को सुनो , जो अन्य सभी स्वरों को सम्हाले हुए हो . जैसे तुम्हारे समूचे शरीर को उसका मेरुदंड , उसकी रीढ़ सम्हाले हुए है ; वैसे ही संगीत की भी रीढ़ होती है . संगीत को सुनते हुए सजग होकर उसमें प्रवेश करो और उसके मेरुदंड को खोजो--उस केन्द्रीय स्वर को खोजो जो पूरे संगीत को सम्हाले हुए है . स्वर तो आते-जाते रहते हैं ; लेकिन केन्द्रीय तत्व प्रवाहमान रहता है . उसके प्रति जागरूक होओ .


Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112