सोमवार, 22 सितंबर 2014

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 27

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 27

["पूरी तरह थकने तक घुमते रहो , और तब , जमीन पर गिरकर , इस गिरने में पूर्ण होओ ."]


बस वर्तुल में घूमो . कूदो , नाचो , दौड़ो , जब तक थक न जाओ घुमते रहो . यह घूमना तब तक जारी रहे जब तक ऐसा न लगे कि और एक कदम उठाना असंभव है . लेकिन यह खयाल रखो कि मन कह सकता है कि अब पूरी तरह थक गए . मन की बिलकुल मत सुनो . चलते चलो , दौड़ते रहो , नाचते रहो , कूदते रहो . मन बार-बार कहेगा कि बस करो , अब बहुत थक गए . मन पर ध्यान ही मत दो . तब तक घूमना जारी रखो जब तक महसूस न हो-- विचारणा नहीं , महसूस करना महत्वपूर्ण है-- कि शरीर बिलकुल थक गया है और अब एक कदम भी उठाना संभव न होगा और यदि उठाऊंगा तो गिर जाऊंगा . जब तुम अनुभव करो कि अब गिरा तब गिरा , अब आगे चला नहीं जा सकता , शरीर भारी और थककर चूर-चूर हो गया है , " तब , जमीन पर गिरकर , इस गिरने में पूर्ण होओ . " तब गिर जाओ . ध्यान रहे कि थकना इतना हो कि गिरना अपने आप ही घटित हो . अगर तुमने दौड़ना जारी रखा तो गिरना अनिवार्य है . जब यह चरम बिंदु आ जाए , तब -- सूत्र कहता है-- गिरो और इस गिरने में पूर्ण होओ . इस विधि का केन्द्रीय बिंदु यही है : जब तुम गिर रहे हो , पूर्ण होओ . इसका क्या अर्थ है ? पहली बात यह है कि मन के कहने से ही मत गिरो . कोई आयोजन मत करो . बैठने की चेष्टा मत करो , लेटने की चेष्टा मत करो . पूरे के पूरे गिर जाओ , मानो कि पूरा शरीर एक है और वह गिर गया है . ऐसा न हो कि तुमने उसे गिराया है .अगर तुमने गिराया है तो तुम्हारे दो हिस्से हो गए ,  एक गिराने वाले तुम हुए और दूसरा गिराया हुआ शरीर हुआ . तब तुम पूर्ण न रहे , खंडित और विभाजित रहे . उसे अखंडित गिरने दो ; अपने को समग्रतः गिरने दो .


Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112