रविवार, 5 जनवरी 2014

हार हो या जीत हो, तुम काँपते नहीं - ओशो सिद्धार्थ