बुधवार, 8 जनवरी 2014

बहरे भी परमात्मा का संगीत सुन सकते हैं- ओशो सिद्धार्थ