सोमवार, 22 सितंबर 2014

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 16

विज्ञान भैरव तंत्र - विधि 16

(" हे भगवती , जब इन्द्रियां हृदय में विलीन हों , कमल के केन्द्र पर पहुँचो .")



इस विधि के लिए क्या करना है ? " जब इन्द्रियां हृदय में विलीन हों..." प्रयोग करके देखो . कई उपाय संभव हैं . तुम किसी व्यक्ति को स्पर्श करते हो ; अगर तुम हृदय वाले आदमी हो तो वह स्पर्श शीघ्र ही तुम्हारे हृदय में पहुँच जायेगा और तुम्हें उसकी गुणवत्ता महसूस हो सकती है . अगर तुम किसी मस्तिष्क वाले व्यक्ति का हाथ अपने हाथ में लोगे तो उसका हाथ ठंडा होगा -- शारीरिक रूप से नहीं , भावात्मक रूप से . उसके हाथ में एक तरह का मुर्दापन होगा . और अगर वह व्यक्ति हृदय वाला है तो उसके हाथ में एक ऊष्मा होगी ; तब उसका हाथ तुम्हारे साथ पिघलने लगेगा , उसके हाथ से कोई चीज निकलकर तुम्हारे भीतर बहने लगेगी और तुम दोनों के बीच एक तालमेल होगा , ऊष्मा का संवाद होगा . यह ऊष्मा हृदय से आ रही है . यह मस्तिष्क से नहीं आ सकती , क्योंकि मस्तिष्क सदा ठंडा और हिसाबी है . हृदय ऊष्मा वाला है , वह हिसाबी नहीं है .
 स्पर्श करो , छुओ . आँख बंद करो और किसी चीज को स्पर्श करो . अपनी प्रेमी या प्रेमिका को छुओ , अपनी माँ को या बच्चे को छुओ , या मित्र को , या वृक्ष , फूल या महज धरती को छुओ . आँखें बंद रखो और धरती और अपने हृदय के बीच , प्रेमिका और अपने बीच होते आंतरिक संवाद को महसूस करो . भाव करो कि तुम्हारा हाथ ही तुम्हारा हृदय है जो धरती को स्पर्श करने को बढ़ा है . स्पर्श की अनुभूति को हृदय से जुड़ने दो .
 तुम संगीत सुन रहे हो , उसे मस्तिष्क से मत सुनो . अपने मस्तिष्क को भूल जाओ और समझो कि मैं बिना मस्तिष्क के हूँ , मेरा कोई सिर नहीं है . अच्छा है कि अपने सोने के कमरे में अपना एक चित्र रख लो जिसमें सिर न हो . उस पर ध्यान को एकाग्र करो और भाव करो कि तुम बिना सिर के हो . सिर को आने ही मत दो और संगीत को हृदय से सुनो . भाव करो कि संगीत तुम्हारे हृदय में जा रहा है , हृदय को संगीत के साथ उद्वेलित होने दो . तुम्हारी इन्द्रियों को भी हृदय से जड़ने दो , मस्तिष्क से नहीं . यह प्रयोग सभी इन्द्रियों के साथ करो और अधिकाधिक भाव करो कि प्रत्येक ऐंद्रिक अनुभव हृदय में जाता है और उसमें विलीन हो जाता है .


Page - प्रस्तावना 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50
51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75
76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100
101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112