बुधवार, 8 जनवरी 2014

ओंकार का जब तुम सुमिरन करते हो तब तुम कल्पवृक्ष के नीचे खड़े हो- ओशो सिद्धार्थ