बुधवार, 8 जनवरी 2014

मरते-मरते जग मरा, और मरना न जाना कोय- ओशो सिद्धार्थ